बाल कविता – कुमारी संजना की कविता

0
497
बाल कविता – कुमारी संजना की कविता
गुरु हमें शिक्षा सिखाते,
जिदंगी मे आगे बढ़ने  की राह दिखाते।
गुरु हमें संस्कार सिखाते,
अच्छे कर्मों को करने की राह दिखाते।
गुरु हमे सच बोलना सिखाते,
झूठ न बोलने की राह दिखाते।
गुरु हमें देश मे ऊँचा उठना सिखाते,
अपने लक्ष्य को पूरा करने की राह दिखाते।
गुरु हमें जीतना सिखाते,
हारकर भी आगे बढ़ने की राह दिखाते।
गुरु हमें अच्छी आदतें सिखाते,
दूसरों का सम्मान करने की राह दिखाते।
गुरु हमें लड़ाई-झगड़ो को छोड़ना सिखाते, मिल-झुल कर रहने की राह दिखाते।
गुरूओं का सदा सम्मान करो,
ना उनका अपमान करो।
नाम -संजना
कक्षा-नौवीं
गवर्मेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा 
काँगड़ा हिमाचल प्रदेश
प्रेषक –  राजीव डोगरा
         (भाषा अध्यापक)
         गवर्नमेंट हाई स्कूल,ठाकुरद्वारा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here