व्यंग्य- गाय माता की जय

0
565

यार विवेक मैं सोच रहा हूँ क्यों ना इस बार चुनाव में अपनी गाय को खड़ा कर दूं। मैं खुद तो कभी चुनाव जीत नहीं सकता ! गाय को खड़ा किया तो बाकी सारे उम्मीदवार अपना अपना वोट भी गाय को ही डालेंगे! उनको अपनी जमानत जब्त होने का भी कोई दुख नहीं होगा क्योंकि गाय हमारी माता है और गाय के लिए हम कुछ भी कर सकते है, क्यों भाई सुरेश सही बोला ना?

— हाँ हां, वोट क्या चीज़ है।

तो बोलो गाय माता की जय! अरे भाई तुम भी बोलो!

गाय के नामांकन की राशि भी चंदे से एकत्रित की जाएगी और चुनाव प्रचार का जिम्मा सब लोग स्वेच्छा से खुद ही करेंगे, हम अपनी तरफ से एक पैसा भी खर्च नहीं करेंगे। वैसे भी कुछ समय से इस देश में गाय से बड़ा कोई नहीं है। और तो और गाय के कुछ सगे संबंधी रक्षक उन लोगों से भी लाठी के बल पर वोट डलवा देंगे जो गाय की उमीदवारी को नापसंद करते हैं। प्रचार का तो कोई खर्चा भी नहीं होगा, क्योंकि गाय की महिमा गाने वालों की कोई कमी नहीं है। हर कोई गाय को जीत दिलाने में बढ़ चढ़ के हिस्सा लेगा। क्यों भाइयों सही बोल रहा हूँ ना?

— हाँ हाँ भाई !

तो बोलो गाय माता की जय ।।

गाय की पवित्रता का कोई सानी नहीं, गाय जैसा भोलाभाला शायद ही कोई उम्मीदवार है, गाय सर्वगुण सम्पन्न है, गाय का दूध, मूत्र यहाँ तक कि गोबर भी अत्यधिक मूल्यवान है। पूरे विश्व में गोबर और मूत्र पर हजारों लोग रिसर्च कर रहे हैं। तो बोलो मित्रों… गाय माता की जय ।। गाय जानवर नहीं है यह पूरे भारत कि माता है शायद ही कोई मूर्ख अपनी माता को वोट नहीं करेगा! अपने देश में ज्ञान और ज्ञानी लोगों की कमी नहीं है, बड़े बड़े डेरे और धर्मगुरु अपने अनुयायियों से गाय को ही वोट करने की अपील करेंगे। दोस्तों गाय की जीत चुनाव होने से पहले ही तय है, मैं तो कहता हूं गाय शत प्रतिशत वोटों से सभी प्रतिद्वंदियों को चारों खाने चित करेगी।

तो बोलो गाय माता की जय ।।

एक बार गाय जीत गई तो अपनी प्रजाति और रक्षकों के लिए 20 % आरक्षण की घोषणा करेगी। आवारा घूमने वाली सारी गायों के लिए भी विशेष नीति बनाई जाएगी। गाय का कत्ल करने वालों को काले पानी से भी कठोर सजा दी जाएगी, उनको भीड़ के बीच में ले जाकर जिंदा ही चमड़ी उधेड़ने की सजा दी जाएगी। जो लोग दूध देने में असमर्थ गाय को गाँव से दूर ले जाकर छोड़ देते है और गाय दर दर की ठोकरें खाने को विवश हो जाती है। ऐसे एहसान फरामोश लोगों पर मातृ हत्या का कानून लाकर फांसी का प्रावधान किया जाएगा। बैल भ्रूण/बच्चा हत्या पर भी कठोर कानून लाया जाएगा, क्योंकि ऐसे लोगों की संख्या करोड़ों में है जो बैल पैदा होने पर या तो उसे मार देते हैं या उसको मां के दूध और घास से महरूम रख कर बचपन मे ही भूख से मार देते हैं। गाय रक्षक इस तरह के मामलों में कभी दखलंदाजी नहीं देते, पर गाय सब जानती है क्योंकि इसके बच्चों के साथ भी ऐसा ही हुआ था। इस जघन्य अपराध के लिए भी मृत्युदंड का ही प्रावधान होगा।

कोई भी गाय मालिक, गाय को ऊंची आवाज में डांट भी नहीं सकता, गाय को लाठी से मारना तो दूर की बात! इस तरह के सभी मसलों को घरेलू हिंसा के कानून में डाला जाएगा। क्योंकि गाय की सर्वश्रेष्ठ छवि है और सभी भारतीयों की माता है तो आने वाले दिनों में गाय हितैषी कार्यों के लिए विशेष अनुदान भी दिया जायेगा। राजकोषीय घाटे को पूरा करने के लिए गाय के सभी को स्वेच्छा से ‘गाय बचाओ‘ टैक्स भरना होगा। जो लोग टैक्स नहीं भरेंगे उनको गाय माता का अपमान करने के लिए देशद्रोही घोषित किया जाएगा।

तो बोलो गाय माता की जय, अरे भाई तुम लोग चुप क्यों हो! गाय माता को जय बोलना सबसे बड़ी देशभक्ति है । हमारे घोषणा पत्र को आदेश से कम न माना जाए। सभी लोग गाय को जिताने में हर संभव कोशिश करें, क्योंकि जो अपनी माँ का नहीं को किसी का नहीं हो सकता!

अतः मेरे भाइयों और बहनों एक बार पूरे जोर से बोलो– गाय माता की जय!!

धन्यवाद।

#नीब

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here